Saturday, December 6, 2008

साजिशें ! (नज़्म)

भूल न जाना...
की तू आतिश है,
और....
साजिशें कर रखी हैं
शरारों ने तेरे ख़िलाफ़,
तेरी हर नज़्म हर ग़ज़ल जला देंगे,

सुन यारा.......

ज़रा संभल कर पीना !

...............................

1 comments:

स्वप्निल कुमार 'आतिश' said...

tumi ek dum boka..

ise bhi yahaan post kar diya..had hai...