Saturday, June 19, 2010

उसे तो बस खुदा जाने !... उसे तो बस खुदा समझे !


न कर परवाह दुनिया की उसे अपना खुदा समझे,
उन आँखों को मदीना और दिल को करबला समझे

भले दुनिया मोहब्बत को हमारी इक खता समझे
भले दुनिया हमें हद से भी ज्यादा सरफिरा समझे,

हसें वो क्या ज़रा सा देख के, हम क्या से क्या समझे
जो होना था ज़रा देरी से उसको हो गया समझे

मगर इस पर भी जब मेरी वफ़ा को वो ज़फ़ा समझे
कोई बतलाये ये दिल उसको किस हद तक बुरा समझे?

हम उनको मुद्द'आ समझे वो हमको मसअला समझे
"हम उनको देखो क्या समझे थे और वो हमको क्या समझे"

जो उसको जानते हैं उनको यह कहते सुना हमने
उसे तो बस खुदा जाने!, उसे तो बस खुदा समझे !

कभी खुद से यहां पर कुछ नहीं समझे, नहीं समझे
वफ़ा पायी.... वफ़ा समझे, ज़फ़ा पायी.... ज़फ़ा समझे

मोहब्बत के उसूलों से न वाकिफ था न वाकिफ है
की मैंने जिस्म जब छोड़ा तो वो मुझको मरा समझे

है दिल ऐसा परिंदा हसरतों की बारिशों में जो
कफस में आसरा पाकर के उसको आसरा समझे..!!
......................................................................................................

2 comments:

संजय भास्कर said...

दिल को छू रही है यह कविता .......... सत्य की बेहद करीब है ..........

Mukesh Kumar Sinha said...

ek achchhi kavita......achhhi prastuti..:)

hamare blog pe aayen......